Vicious woman used to make recovery by threatening to be implicated in rape case, used to change whereabouts every two months, now reached jail | दुष्कर्म के केस में फंसाने की धमकी देकर वसूली करती थी शातिर महिला, हर दो महीने में बदलती थी ठिकाना, अब पहुंची जेल


  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Pali
  • Jalore
  • Vicious Woman Used To Make Recovery By Threatening To Be Implicated In Rape Case, Used To Change Whereabouts Every Two Months, Now Reached Jail

जालोरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
पुलिस की गिरफ्त में आई शातिर महिला। - Dainik Bhaskar

पुलिस की गिरफ्त में आई शातिर महिला।

जालोर की रानीवाड़ा तहसील के एक छोटे से गांव की महिला गीता हीरागर हनीट्रैप जैसे संगीन अपराध में हवालात पहुंच गई है। गीता अब तक कई लोगों को दुष्कर्म के केस में फंसाने की धमकी देकर लाखों रुपए ऐंठ चुकी है। दो लोगों के खिलाफ थाने में दुष्कर्म के केस भी दर्ज करवा चुकी है। जिसमें समझौते के नाम पर रुपए वसूल लिए। लेकिन तीसरे केस में गीता का दांव उल्टा पड़ गया और वह जेल में पहुंच गई। गीता ने व्यापारी को 2 लाख रुपए देने की धमकी दी। नहीं देने पर दुष्कर्म का केस दर्ज करवा दिया। लेकिन इस बार व्यापारी ने भी उसके खिलाफ ब्लैकमेल कर पैसे वसूलने के लिए दबाव बनाने का मुकदमा दर्ज करवा दिया। इसके बाद पुलिस की जांच में महिला का झूठ पकड़ा गया। भीनमाल पुलिस के हत्थे चढ़ी अनपढ़ महिला की शातिर चालों के बारे में सुनकर हर कोई हैरान है।

किराणा व्यापारी से मांगे थे 2 लाख रुपए
भीनमाल के जूंजाणी रोड स्थित एक किराणा व्यापारी ने कोर्ट से इस्तगासे के जरिए 14 जुलाई, 2021 को भीनमाल थाने में मामला दर्ज करवाया था। जिसमें बताया कि रानीवाड़ा के बिलड़ गांव निवासी गीता हीरागर ने उस पर दुष्कर्म का झूठा केस दर्ज कराया है। गीता ने केस दर्ज कराने से पहले उसे कॉल किए थे और 2 लाख रुपए मांगे थे। नहीं देने पर दुष्कर्म के केस में फंसाने की धमकी दी थी। किराणा व्यापारी ने बताया था कि उसने कभी गीता को ना तो देखा और ना कभी वो दुकान पर आई। जबकि गीता ने रिपोर्ट में व्यापारी की दुकान में दुष्कर्म होना बताया था। भीनमाल के डीवाईएसपी शंकरलाल की जांच में मामला झूठा पाया गया। इस पर गीता को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया गया, जिसे कोर्ट ने जेल भेज दिया।

कॉल करके धमकी देती, रुपए दो नहीं तो केस कर दूंगी
पुलिस जांच में सामने आया कि गीता पैसे वाले लोगों के नंबर लाती और उनको कॉल करती। किसी भी तरह थोड़ी देर तक बातों में उलझाए रखती। ऐसा कुछ दिन तक चलता रहता। इसके बाद आखिरी कॉल रुपए वसूलने की धमकी का होता। पुलिस जांच में सामने आया है कि शातिर महिला ने इस तरह धमकी देकर अब तक दर्जनों लोगों से लाखों रुपए वसूले हैं। जब किसी पर धमकी का असर नहीं होता तो वह उसके खिलाफ थाने में दुष्कर्म का केस दर्ज करवा देती। जसवंतपुरा थाने में 10 जुलाई 2020 और भीनमाल थाने में 30 नवंबर 2020 को दो लोगों के खिलाफ केस भी दर्ज करवा चुकी है। हालांकि बाद में समझौता होने पर पुलिस ने इन मामलों में एफआर लगा दी।

हर दो महीने में रहने का ठिकाना बदलती
गीता हीरागर का ससुराल करड़ा में है, लेकिन उसने पति को छोड़ रखा है। इसके बाद से भीनमाल में ही रहती है। वह हर दो महीने में अपने रहने का ठिकाना बदल देती थी। पुलिस जांच में यह अब तक सामने नहीं आया है कि गीता हीरागर के साथ इस अपराध में और कौन-कौन लोग जुड़े हुए थे या फिर वह अकेली ही इस तरह के अपराध को अंजाम देती थी। भीनमाल के डीवाईएसपी शंकरलाल ने बताया कि गीता ने व्यापारी पर दुष्कर्म का केस दर्ज करवाया था। इसके खिलाफ व्यापारी ने भी मामला दर्ज करवाया था। जांच में दुष्कर्म का मामला झूठा पाया गया। उसने पहले भी दो लोगों के खिलाफ मामले दर्ज करवाए थे, जो झूठे पाए गए थे।

मामले की जानकारी देते हुए डीवाईएसपी शंकरलाल।

मामले की जानकारी देते हुए डीवाईएसपी शंकरलाल।

10 साल की जेल और जुर्माने का प्रावधान
एडवोकेट ईश्वर सिंह देवड़ा ने बताया कि आजीवन कारावास का अभियोग लगने के भय में डालना भारतीय दंड संहिता की धारा 389 में दंडनीय अपराध है। जिसमें 10 साल की सजा एवं जुर्माने का प्रावधान है। इस तरह ब्लैकमेल करने वालों के खिलाफ चुप रहने के बजाय पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करवानी चाहिए।

खबरें और भी हैं…



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*