The accused abuse the officer in Rewa district, then killed himself with the blade | पहले आरोपी ने दी अधिकारियों को गाली, फिर खुद ब्लेड मारकर हाथ को कर लिया जख्मी, केरोसीन डालकर आग लगाने की भी कोशिश की


रीवा40 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • परिजनों को समझाइश देकर पुलिस ने आरोपी को अस्पताल में कराया भर्ती, गंभीर हालत में मेडिकल कॉलेज रेफर

रीवा जिले के लौर थाना अंतर्गत नौढ़िया गांव के एक अतिक्रमणकारी के दुस्साहस से पुलिस और प्रशासन के लोग हैरत में है। बताया गया कि गुरुवार की शाम 4.30 बजे अतिक्रमण हटाने पहुंचे राजस्व व पुलिस अधिकारियों को आरोपी ने पहले गाली गलौच किया। फिर खुद पर ब्लेड मारकर हाथ को जख्मी कर लिया। पुलिस व प्रशासन के लोगों ने आरोपी को रोकने की कोशिश की तो वह केरोसीन डालकर आग लगाने की भी कोशिश की।

आरोपी की हरकत शाम से रात 8 बजे तक चलती रही। अंत में परिजनों की समझाइश के बाद आरोपी को रात 9 बजे मऊगंज अस्पताल में दाखिल कराया गया। जहां उसकी स्थिति को गंभीर देखते हुए रीवा के एसजीएमएच रेफर कर दिया गया है। इधर लौर पुलिस ने नायब तहसीलदार वृत्त देवतालाब की रिपोर्ट पर अपराध क्रंमांक 295/21 धारा 353 186294506 भादवि कायम कर विवेचना में लिया गया।

मऊगंज एएसपी विजय डाबर ने बताया कि ग्राम नौढ़िया स्थित शासकीय आराजी नंबर 529 रकबा 0.898 हेक्टेयर के अंश रकबा 0.020 हेक्टेयर 2012 वर्गफुट रास्ते के भूमि पर अतिक्रमण हटाने के लिए नायब तहसीलदार वृत्त देवतालाब मान सिंह आर्मो द्वारा लौर थाने से पुलिस बल की मांग की थी। तब सउनि फत्तेलाल प्रजापति, आरक्षक नारेन्द्र माकोड़े, महिला आरक्षक वैशाली शुक्ला, हल्का पटवारी नौढ़िया एवं प्रभारी राजस्व निरीक्षक देवलालाब जवाहरलाल रावत, चौकीदार मिठाईलाल धोबी, भैयालाल तिवारी आदि लोग गुरुवार की शाम 4.30 बजे अतिक्रमणकारी के स्थल में पहुंचे थे।

अतिक्रमण हटाने की बात पर भड़क गया
पुलिस ने बताया कि आरोपी विमलेन्द्रजीत कोल को स्वतः अतिक्रमण हटा लेने के लिए अधिकारियों ने कहा तो वह भड़क गया। वह आक्रोशित होकर पूरे अतिक्रमणरोधी दस्ता को गाली देने लगा। साथ ही देखते ही देखते उसने ब्लेड उठाई और अपने हाथ में मार ली। गहरे जख्म होने के कारण पुलिस प्रशासन के लोग डर गए।​ फिर आरोप के परिवार के सदस्यों ने बचाव करने का प्रयास किया तो वह अपने ऊपर मिट्टी तेल डालकर आग लगाने की धमकी दी। वहीं दूसरी तरफ आरोपी के हाथ से निरंतर खून निकल रहा था। जिसको उपचार बहुत जरूरी थी। अंत में आसपास के लोग व माता पिता की समझाइश के बाद मऊगंज अस्पताल जाने के लिए तैयार हुआ। जहां से प्राथमिक उपचार के बाद रीवा रेफर कर दिया है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*