Carousels started adorning the temples, till Janmashtami, now there will be darshan of Thakur ji in attractive tableaux. | मंदिरों में सजने लगे हिंडोले, जन्माष्टमी तक अब रोज होंगे आकर्षक झांकियों में ठाकुर जी के दर्शन


भरतपुर2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
गीतों में पीहर में भाई-बहनाें के साथ बिताए समय को याद किया। साथ ही पति की दीर्घायु के लिए व्रत रखा। - Dainik Bhaskar

गीतों में पीहर में भाई-बहनाें के साथ बिताए समय को याद किया। साथ ही पति की दीर्घायु के लिए व्रत रखा।

शहर में बुधवार को हरियाली तीज मनाई गई। इस मौके पर महिलाओं ने पारंपरिक वस्त्र पहने और तीज माता की पूजा की। शाम को पार्कों में झूले डाले और सावन की मल्हारों के साथ झोटे लिए। गीतों में पीहर में भाई-बहनाें के साथ बिताए समय को याद किया। साथ ही पति की दीर्घायु के लिए व्रत रखा।

इस दौरान मंदिरों में भी हिंडोले डाले गए। ठाकुर जी को घेवर फैनी का भोग लगाया गया। श्रावण मास के दौरान मंदिरों में नियमित अलग-अलग झांकियों में ठाकुर जी के दर्शन होंगे। बुधवार को हरियाली तीज शिव योग एवं रवि योग में मनी।

भगवान गणपति, शिव और माता पार्वती की मूर्ति बनाकर पूजा की गई। सोलह शृंगार की सामग्री, पंचोपचार, शोडषोपचार, धूप, दीप, नैवेद्य, श्रीफल, चढ़ाया गया। ज्योतिषी मनु मुदगल ने बताया कि माता पार्वती को प्रकृति का स्वरूप माना जाता है। प्रकृति का रूप श्रावण में हरा-भरा होता है।

इसलिए माता पार्वती को हरी चूड़ियां, हरी साड़ी, मेहंदी, सिंदूर आदि सुहाग की सामग्री चढ़ाने से मनोकामनाएं पूरी होती हैं। तृतीया तिथि गौरी का दिन होता है, इसलिए सुहागन महिलाएं पति की लंबी आयु के लिए माता पार्वती की पूजा करती हैं। धर्मशास्त्रों की मान्यता के अनुसार हरियाली तीज को देवाधिदेव शिव और मां पार्वती का पुनर्मिलन हुआ था। इसी कारण सुहागन महिलाएं व्रत और भगवान शिव एवं माता पार्वती की पूजा करती हैं।

नागपंचमी कलः 13 अगस्त को नागपंचमी मनाई जाएगी। इस दिन शुक्रवार को पंचमी तिथि दोपहर 1.42 बजे तक रहेगी। हस्त नक्षत्र सुबह 7.58 बजे तक रहेगा। इस नक्षत्र में नाग पूजन शुभ माना गया है। सर्पदोष से मुक्ति के लिए चांदी की नाग-नागिन बनवाकर उनका षोडशोपचार पूजन करके बहती नदी में प्रवाहित करें या तांबे के नाग का पूजन करके सूर्याेदय से पहले शिवलिंग पर चढ़ाएं।

खबरें और भी हैं…



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*