There was a ruckus in front of the MLA, a resolution was passed in the second meeting of the municipality, the municipal president accused the Congress of not allowing the meeting to run | विधायक के सामने होता रहा हंगामा, नगर पालिका का दूसरी बैठक में एक प्रस्ताव पास, पालिकाध्यक्ष ने लगाया कांग्रेस पर बैठक नहीं चलने देने का आरोप



  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • There Was A Ruckus In Front Of The MLA, A Resolution Was Passed In The Second Meeting Of The Municipality, The Municipal President Accused The Congress Of Not Allowing The Meeting To Run

सीकर2 घंटे पहले

बैठक में हंगामा करते पार्षद

नगर पालिका चुनाव के बाद पालिकाध्यक्ष की मौजूदगी में पहली बैठक हंगामेदार रही। इससे पहले बैठक विधायक दीपेंद्र सिंह शेखावत और कांग्रेस पार्षदों ने की थी। इस बार भी विधायक बैठक में मौजूद रहे। पार्षदों ने जमकर हंगामा मचाया। एक ही प्रस्ताव पास किया गया। लेकिन इस पर हंगामा डेढ़ घंटे तक चला। आखिरकार पालिकाध्यक्ष ने हंगामे को देखते हुए बैठक को समाप्त ​कर दिया।

दरअसल श्रीमाधोपुर में भाजपा एक वोट से बोर्ड बनाने में तो कामयाब हो गई, लेकिन दोनों पार्षदों की संख्या बराबर होने। छह मनोनीत पार्षद कांग्रेस के बनने से भाजपा पर दबाव बन गया है। पालिकाध्यक्ष हरिनारायण महंत ने बताया कि बैठक में सात प्रस्ताव पास शामिल थे, लेकिन कांग्रेस विधायक पहले से पार्षदों को तैयार करके लाए थे। जिससे बैठक नहीं चल पाए। नतीजा एक प्रस्ताव के बाद बैठक स्थगित करनी पड़ी।

प्लास्टिक के स्पीड ब्रेकर लगाने के प्रस्ताव पर हुई थी बैठक

वहीं बैठक में मौजूद विधायक दीपेंद्र सिंह शेखावत का कहना है कि पहले प्रस्ताव पर डिवाइडर पर प्लास्टिक के स्पीड ब्रेकर लगाने का था। जिस पर कांग्रेस पार्षदों ने प्रस्ताव का समर्थन किया था, लेकिन खुद भाजपा के पार्षदों का प्रस्ताव होने के बाद भी विरोध कर रहे थे। खुद ही बैठक समाप्त कर रहे हैं।

दरअसल पहला प्रस्ताव में क्षेत्र में दुघर्टना के संभावित सड़कों व स्थानों पर स्पीड ब्रेकर के लिए प्लास्टिक के स्पीड ब्रेकर खरीद का था। इस पर भाजपा के पार्षदों ने पहले क्षेत्र में स्पीड ब्रेकर के लिए मांग रखी, जब बैठक में प्रस्ताव था तो सदन में विरोध में आ गए। वहीं एक महिला पार्षद के बोलने पर कांग्रेस पार्षदों ने माफी मांगने की मांग करते हुए हंगामा मचाया।

जबकि इस बैठक में सीएम की बजट घोषणा के तहत नगरपालिका इलाके में ओपन जिम के लिए उपकरण खरीद करने, नगरपालिका क्षेत्र में सड़क मरम्मत, नाली मरम्मत के कार्य के लिए वार्षिक अनुबंध करने, मृतक आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति देने, नगरपालिका क्षेत्र में सफाई व्यवस्था प्रभावी बनाने, बिजली व रोशनी और स्वतंत्रता दिवस मनाए जाने पर चर्चा होनी थी।

बता दे कि भाजपा के पालिकाध्यक्ष को लेकर 18 पार्षद है जबकि कांग्रेस के 17 पार्षद है। वहीं सरकार ने अब छह पार्षद कांग्रेस के मनोनीत किए गए है। हालांकि मनोनीत पार्षदों को वोटिंग का अधिकार नहीं है।

खबरें और भी हैं…



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*