2848 people living in 21 relief camps in Varanasi, District Magistrate said – monitoring is being done by 85 boats, distributing ration kits | वाराणसी में 21 राहत शिविरों में रह रहे 2848 लोग, जिलाधिकारी बोले- 85 नावों से की जा रही निगरानी; बांट रहे राशन किट


वाराणसी8 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
वरुणा नदी के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लेने व राशन किट देने निकले पुलिस आयुक्त ए. सतीश गणेश, डीएम कौशल राज शर्मा और मंत्री डॉॅ. नीलकंठ तिवारी। (बाएं से दाएं) - Dainik Bhaskar

वरुणा नदी के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का जायजा लेने व राशन किट देने निकले पुलिस आयुक्त ए. सतीश गणेश, डीएम कौशल राज शर्मा और मंत्री डॉॅ. नीलकंठ तिवारी। (बाएं से दाएं)

वाराणसी में गंगा खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। गंगा में आई बाढ़ के चलते पलट प्रवाह की वजह से वरुणा नदी भी रौद्र रूप में है। इसे देखते हुए जिला प्रशासन की ओर से बाढ़ राहत का कार्य युद्धस्तर पर किया जा रहा है। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने मंगलवार की शाम बताया कि 21 राहत शिविरों में फिलहाल 2848 लोग रह रहे हैं। बाढ़ क्षेत्र में निगरानी के लिए 31 मोटर बोट और 39 मध्यम व 15 छोटी सहित 85 नावों का संचालन किया जा रहा है।

वाराणसी में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के लोग इन मोबाइल नंबर पर कभी भी कॉल कर सकते हैं।

वाराणसी में बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के लोग इन मोबाइल नंबर पर कभी भी कॉल कर सकते हैं।

खतरे के निशान से 62 सेंटीमीटर ऊपर बह रही गंगा

वाराणसी में गंगा का खतरे का निशान 71.262 मीटर है। केंद्रीय जल आयोग के अनुसार मंगलवार की शाम 6 बजे गंगा खतरे के निशान से 62 सेंटीमीटर ऊपर यानी 71.88 मीटर पर बह रही थी। कभी जलस्तर में 1 सेंटीमीटर प्रति घंटे तो कभी 2 सेंटीमीटर प्रति घंटे की दर से बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है। फिलहाल यह अनुमान लगा पाना मुश्किल है कि गंगा कब स्थिर होंगी और उनका वेग सामान्य होगा।

गंगा और वरुणा के बढ़ते जलस्तर के मद्देनजर मंगलवार को बाढ़ राहत शिविरों का जायजा लेने के साथ ही मंत्री डॉ. नीलकंठ तिवारी के साथ जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा और पुलिस आयुक्त ए. सतीश गणेश ने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर राहत सामग्री वितरित की। जिलाधिकारी ने बताया कि अब तक 1353 सूखा राशन किट का वितरण किया जा चुका है।

जिले में बाढ़ प्रभावित 30,921 लोग

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि जिले में अब तक बाढ़ प्रभावित गांव, मोहल्ला व वार्ड 58 हैं और बाढ़ प्रभावित लोगों की संख्या 30,921 है। इनमें से बाढ़ राहत शिविरों में 2848 लोग ही रह रहे हैं। राहत शिविरों में रह रहे लोगों को खाने-पीने के साथ-साथ चाय-नाश्ता भी दिया जा रहा है। सभी केंद्रों पर दवाइयों की भी उपलब्धता है। पीने के साफ पानी और टॉयलेट की व्यवस्था की गई है।

बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के मकानों या दुकानों में चोरी न हो, इसके लिए पुलिस को विशेष रूप से सतर्कता बरतने को कहा गया है। प्रशासन का पूरा प्रयास है कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के लोगों को किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो। पूरी उम्मीद है कि जल्द ही गंगा का जलस्तर सामान्य होना शुरू होगा और लोगों को राहत मिलेगी।

खबरें और भी हैं…



Source link

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*